An Unbiased View of WAKE UP WITH DETERMINATION & FOCUS


कुछ भी हो जाए, बदलना ही है

৩.পুণ্য আত্মা অর্থাৎ সদা তাদের নয়নের দ্বারা বাপদাদার মূর্তি আর মুখে বাপদাদার মুখ , স্মৃতি বাপ সমান , মুখে সদা জ্ঞান রত্ন অর্থাত সদা অমূল্য বোল , প্রত্যেক কর্ম বাপ সমান চরিত্র , সদা বাপ-সমান বিশ্ব কল্যানকরি বৃত্তি , প্রত্যেক সেকেন্ড প্রত্যেক সংকল্প কল্যাণকারী , দয়ার কিরণের দ্বারা চারিদিকের দুঃখ অশান্তির অন্ধকারকে যে দূর করে

Will, frequently, is usually that school on the brain which intentionally selects, at the moment of determination, the strongest drive from amongst the various needs present. Will does not seek advice from any individual motivation, but alternatively into the capacity to act decisively on one particular's desires.

Willpower can be a mental muscle mass which you could teach. People who accomplish that usually tend to direct delighted and prosperous life

பரமாத்ம சந்திப்பின் மூலமாக ஆன்மீக உரையாடலின் உண்மையான பதிலை பெறக் கூடியவராகி பாபாவிற்குச் சமமாக பலரூபம் உடையவர் ஆகுக.

जैसे द्वापर के इनडायरेक्ट दान-पुण्य करने वाले सकामी अल्पकाल के राजायें देखे व सुने होंगे, उन राजाओं में भी राज्य सत्ता की फुल पावर थी। जो आर्डर करें, कोई उसको बदल नहीं सकता। चाहे किसी को क्या भी बना दें। किसी को मालामाल बना दें, किसी को फाँसी पर चढ़ा दें, दोनों अथॉरिटी थी। यह है इनडायरेक्ट दान-पुण्य की सत्ता जो द्वापर के आदि में यथार्थ रूप में यूज करते थे। पीछे धीरे-धीरे वही राज्य सत्ता अयथार्थ रूप में हो गई। इस कारण आखिर अन्त में समाप्त हो गई। लेकिन जैसे इनडायरेक्ट राज्य सत्ता में भी इतनी शक्ति थी जो अपनी प्रजा को, परिवार को अल्पकाल के लिए सुखी वा शान्त बना देते थे। ऐसे ही आप पुण्य आत्माओं व महादानियों को भी डायरेक्ट बाप द्वारा प्रकृति-जीत, मायाजीत की विशेष सत्ता मिली हुई है तो आप ऑलमाइटी सत्ता वाले हो। अपनी ऑलमाइटी सत्ता के आधार पर अर्थात् पुण्य की पूंजी के आधार पर, शुद्ध संकल्प के आधार से, किसी भी आत्मा के प्रति जो चाहो, वह उसको बना सकते हो। आपके एक संकल्प में इतनी शक्ति है जो बाप से सम्बन्ध जोड़ मालामाल बना सकते हो। उनका हुक्म और आपका संकल्प। वह अपने हुक्म के आधार से जो चाहें वह कर सकते हैं - ऐसे आप एक संकल्प के आधार से आत्माओं को जितना चाहे उतना ऊंचा उठा सकते हो क्योंकि डायरेक्ट परमात्म-अधिकार प्राप्त हुआ है - ऐसी श्रेष्ठ आत्मायें हो?

“जो भी कमी है उसको छोड़ना ही है

The use of English in philosophical publications began while in the early fashionable period, and so the English word "will" became a term Utilized in philosophical discussion. For the duration of this exact same interval, Scholasticism, which had mainly been a Latin language movement, was closely criticized. The two Francis Bacon and René Descartes described the human intellect or comprehension as something which necessary to be considered constrained, and needing the help of a methodical and skeptical method of Understanding about mother nature. Bacon emphasized the value analyzing expertise within an structured way, such as experimentation, though Descartes, observing the accomplishment more info of Galileo in applying mathematics in physics, emphasized the purpose of methodical reasoning as in arithmetic and geometry.

लेकर आत्मा को सतोप्रधान बनानेवाले, विकर्म विनाश कर

विष्व का मालिक हूँ ..... मैं आत्मा ताजधारी ..... तख़्तधारी .....

Nevertheless, the very notion of self-­Handle has acquired a musty Victorian odor. The Google Guides Ngram Viewer displays that the phrase rose in attractiveness with the 19th century but began to free of charge slide all over 1920 and cratered from the sixties, the period of doing all of your very own point, permitting everything hold out and using a walk on the wild facet.

अभी आपके है, दूसरा ना कोई... सर्व शक्तिमान बाप

, moral desires, and integrity have the aptitude for somebody to act morally through the hierarchical buy of virtues.

वरदान: हम आत्माएँ, चलते फिरते डबल लाइट फरिश्ते की स्थिति की स्मृति में रहकर ऊड़ती कला का अनुभव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *